Monday, July 6, 2015

Health benefits of Yogasanas Hindi: योगासनों के गुण और लाभ

योगासनों के गुण और लाभ


योगासनों का सबसे बड़ा गुण यह हैं कि वे सहज साध्य और सर्वसुलभ हैं। योगासन ऐसी व्यायाम पद्धति है जिसमें न तो कुछ विशेष व्यय होता है और न इतनी साधन-सामग्री की आवश्यकता होती है। योगासन अमीर-गरीब, बूढ़े-जवान, सबल-निर्बल सभी स्त्री-पुरुष कर सकते हैं। आसनों में जहां मांसपेशियों को तानने, सिकोड़ने और ऐंठने वाली क्रियायें करनी पड़ती हैं, वहीं दूसरी ओर साथ-साथ तनाव-खिंचाव दूर करनेवाली क्रियायें भी होती रहती हैं, जिससे शरीर की थकान मिट जाती है और आसनों से व्यय शक्ति वापिस मिल जाती है। शरीर और मन को तरोताजा करने, उनकी खोई हुई शक्ति की पूर्ति कर देने और आध्यात्मिक लाभ की दृष्टि से भी योगासनों का अपना अलग महत्त्व है। आइये जानते हैं योगासन के गुण और लाभ के बारे में। क्‍या हैं 
योगासनों के लाभ-

(1) योगासनों से भीतरी ग्रंथियां अपना काम अच्छी तरह कर सकती हैं और युवावस्था बनाए रखने एवं वीर्य रक्षा में सहायक होती है।
 (2) योगासनों द्वारा पेट की भली-भांति सुचारु रूप से सफाई होती है और पाचन अंग पुष्ट होते हैं। पाचन-संस्थान में गड़बड़ियां उत्पन्न नहीं होतीं। 
(3) योगासन मेरुदण्ड-रीढ़ की हड्डी को लचीला बनाते हैं और व्यय हुई नाड़ी शक्ति की पूर्ति करते हैं। 
(4) योगासन पेशियों को शक्ति प्रदान करते हैं। इससे मोटापा घटता है और दुर्बल-पतला व्यक्ति तंदरुस्त होता है।
(5) योगासन स्त्रियों की शरीर रचना के लिए विशेष अनुकूल हैं। वे उनमें सुन्दरता, सम्यक-विकास, सुघड़ता और गति, सौन्दर्य आदि के गुण उत्पन्न करते हैं। 


(6) योगासनों से बुद्धि की वृद्धि होती है और धारणा शक्ति को नई स्फूर्ति एवं ताजगी मिलती है। ऊपर उठने वाली प्रवृत्तियां जागृत होती हैं और आत्मा-सुधार के प्रयत्न बढ़ जाते हैं। (7) योगासन स्त्रियों और पुरुषों को संयमी एवं आहार-विहार में मध्यम मार्ग का अनुकरण करने वाला बनाते हैं, अत: मन और शरीर को स्थाई तथा सम्पूर्ण स्वास्थ्य, मिलता है। 
(8) योगासन श्वास- क्रिया का नियमन करते हैं, हृदय और फेफड़ों को बल देते हैं, रक्त को शुद्ध करते हैं और मन में स्थिरता पैदा कर संकल्प शक्ति को बढ़ाते हैं। 
(9) योगासन शारीरिक स्वास्थ्य के लिए वरदान स्वरूप हैं क्योंकि इनमें शरीर के समस्त भागों पर प्रभाव पड़ता है, और वह अपने कार्य सुचारु रूप से करते हैं। 
(10) आसन रोग विकारों को नष्ट करते हैं, रोगों से रक्षा करते हैं, शरीर को निरोग, स्वस्थ एवं बलिष्ठ बनाए रखते हैं। 
(11) आसनों से नेत्रों की ज्योति बढ़ती है। आसनों का निरन्तर अभ्यास करने वाले को चश्में की आवश्यकता समाप्त हो जाती है। 
(12) योगासन से शरीर के प्रत्येक अंग का व्यायाम होता है, जिससे शरीर पुष्ट, स्वस्थ एवं सुदृढ़ बनता है। आसन शरीर के पांच मुख्यांगों, स्नायु तंत्र, रक्ताभिगमन तंत्र, श्वासोच्छवास तंत्र की क्रियाओं का व्यवस्थित रूप से संचालन करते हैं जिससे शरीर पूर्णत: स्वस्थ बना रहता है और कोई रोग नहीं होने पाता। शारीरिक, मानसिक, बौद्धिक और आत्मिक सभी क्षेत्रों के विकास में आसनों का अधिकार है। अन्य व्यायाम पद्धतियां केवल वाह्य शरीर को ही प्रभावित करने की क्षमता रखती हैं, जब कि योगसन मानव का चहुँमुखी विकास करते हैं।


Thursday, February 12, 2015

Sinusitis (Dushtapratisyaya) and its Ayurveda management



Sinusitis (Dushtapratisyaya) and its Ayurveda management
SINUSITIS/ RHINO SINUSITIS


Inflammation of Para nasal sinuses is calledSinusitis (Rhino sinusitis). It can also be defined as inflammation of mucus membrane that lines the Para nasal sinuses. Usually sinuses are filled with air, but when it is infected with bacteria, viruses, etc, it is blocked with mucus or germs and it will ultimately lead to Sinusitis. It may causes symptoms like cold. headache, dizziness,etc.
What is Sinus:
The Sinuses or Para nasal sinuses are air filled spaces in the skull. They are located behind the forehead, nasal bones, cheeks, and eyes.
There are four pairs of Para nasal sinuses are there:
1. Frontal Sinuses: Over the eyes in the brow area. If it is effected may produce symptoms like Pain above the eye, forehead, head ache, etc.
2. Ethmoidal Sinuses: Two are there (Anterior and Posterior). Behind the bridges of the nose and between the eyes. Symptoms may produce like pain behind the eyes, sides, upper part of nose head ache, etc.
3. Maxillary sinuses: Inside each cheek bones.Pain over each cheek.
4. Sphenoid sinuses: Behind the ethmoid in the upper region of the nose and behind the eyes. Pain behind the eyes refers to vertex, over mastoid process and back of the head.
Each sinuses has opening into the nose for free exchange of mucus and air and also joined with the nasal passage by continuous mucus membrane lining. So it thus helps for continuous pressure maintenance, air filtering etc. These sinuses also protects the internal organ of skull by acting as shock absorber. These also ensures free air circulation and helps to maintain internal equilibrium.

Paranasal sinuses
What causes Sinusitis?
It can caused by infections like bacterial, viral, etc.May be due to allergies, Auto immune diseases, changes in climate,structural abnormalities like DNS, small sinus ostia. Sometimes it may be due to smoking, Dental diseases etc.
Signs and Symptoms:

• Headache, fever, etc
• Feeling of nasal stiffness, sore throat, etc.
• Discoloured nasal discharge.
• Tooth ache, bad breath, etc
Pain may be localised depending on the type of sinus affected.May worsen when the affected person bends over or lying down. Pain often starts on one side of the head and progress to both sides. Nasal discharge that is usually green in colour and may contain pus or blood.
Pathophysiology:
Sinuses are the cavities that has the connection to the nose and brain. So anything that causes blockage due to swelling infection,etc may cause development of sinus problems. Air trapped in sinuses along with pus, mucus,etc will cause pressure on the sinus wall will lead to pain.
Classifications of Sinusitis:
It can be classified into
1. Acute Sinusitis: May last up to 4 weeks and can be due to Viral or bacterial,etc.
2. Recurrent Acute: 4 or more separate episodes of acute sinusitis.
3. Sub acute Sinusitis: Infection that lasts between 4 and 12 weeks and represents a transition between acute and chronic type.
4. Chronic Sinusitis: Lasts more that 12 weeks.
How to diagnose the condition?
Usually diagnosis is made by symptoms,radiological findings, etc.
Bacterial and viral acute sinusitis are difficult to diagnose. However if symptoms last less than ten days it is considered as Viral. If it is more than 10 days it is considered as bacterial.
• Increased pain while tilting the head towards separates sinusitis from other conditions.
• tapping the facial area and inducing the tenderness is one method to distinguish.
Chronic cases:
• CT Scan is recommended.
• Nasal endoscopy and clinical symptoms.
• Tissue samples for histology and culture.
• In rare cases sinoscopy may be made (Nasal endoscopy).
Nasal Endoscopy: Inserting a flexible fibre optic tube with a light and camera at its tip into the nose to examine nasal passages and sinuses.
Investigations and radiological findings:
X-RAY: To evaluate symptoms of possible sinusitis X-Ray of the sinuses may be taken from several directions. Before CT it was the standard technique to diagnose the acute sinusitis,etc.
Abnormal finding on an x-ray of the sinuses may show evidences of fluid in a sinus or thickened mucus membrane.

X- Ray of Sinusitis

CT sinusitis
CT Scan:
It is the best method for viewing para nasal sinuses. CT Scan are recommended for acute sinusitis only if there is sever infection, complication or high risk for complications.
They show inflammation and swelling and the extend of infection that may cant see through X-Ray. May also detect presence of fungal infection also.
MRI - Sinusitis:
It is not effective as CT. It can help rule out fungal sinusitis and may help differentiate between inflammatory diseases, malignant tumours, and complications within the skull. It is also helpful for showing soft tissues.

MRI sinusitis
Complications:
Close proximity of the brain to the sinuses increase complications, particularly involving frontal and ethmoid sinuses. Infection of the brain by invasion of the bacteria through bone or blood vessel. Abscesses, meningitis, mild personality changes, sleeplessness,seize rs, etc.
Sinusitis may extend to CNS where it may cause Brain abscesses,etc.
Treatments:
There are different approaches:
• Nasal irrigation.
• Nasal Sprays. Eg-Oxymetazoline- longer use may cause rebound sinusitis.
• Apply moist warm cloths on affected area.
• Drink more water.
• Antibiotics.
• Surgery.
• corticosteroids.
Antibiotics:
In viral sinusitis it will subside without antibiotics. If symptoms do not resolve in 10 days amoxycillin/ clavulanate combinations can give.
(Antibiotics are specifically not recommended in those with mild or moderate diseases during the first week of infection due to risk of adverse effects like antibiotic resistance, etc.).
Corticosteroids can give in chronic cases.
Surgery:
Surgery should only be considered for those patients who do not experience sufficient relief from other medical treatments.
Maxillary Antral Washout:
Puncturing the sinuses and flushing with saline to clear the mucus.
Functional endoscopic sinus surgery (FESS).
Balloon sinoplasty.
Cladwell- LUC radical antrostomy.
Incision in the upper gum opening the anterior wall of the antrum removal of entire diseased maxillary sinus mucosa and drainage.
Dushtaprathisyaya (Sinusitis) and its Ayurveda Management
In Ayurveda the treatment for sinusitis or other nasa roga are beautifully explained. Because the nose is considered as an important structure of the Siras/ head and it is the entry point to skull. It is the pathway of the Pranavayu. Thus any obstruction in this region should be treated immediately.
What are the causes?
• sudden temperature changes.
• changes in Food habit , etc.
• Intake of unwholesome foods and regimen.etc
Signs and Symptoms According to Ayurveda:
1. Agnimaandya - Indigestion.
2. Jwara (Fever), Kasa (cough), Swasa (dyspneoa),etc.
3. Ura- Paarswa veda (head ache, chest pain,back pain etc.).
4. Mukha Dourgandyam - Bad breath.
5. Asya sopha - inflammatory swelling over face.
6. nasal obstruction.
7. loss of smell.
8. Kapha/ mucous becomes yellow or greenish and thick.etc.
Patho physiology:
In Ayurveda it is considered as a Kaphaja disease. It can be correlated toDhushtaprathisyaya. Due to Nidana factors/ causative factors Kapha get aggravated and affected by ama. and further by vata. Pranavata is a sub type of Vata Doshapresent in respiratory tract also affects due to this vitiated kapha.
Treatments:
Samprapthi Vighattana and Nidana Parivarjana are the basic principles of treatments in Ayurveda. So the mode of line of treatment should be:
1. Nidana Parivarjana (Removal of causative factors).
2. Correct digestive fire and clearing the amavastha.
3. Normalizing the vitiated kapha by Shodhana/ Purification therapies (viaPanchakarma).
4. Clear the Srothas/ Channels for Pranavayu.
We can achieve all this by
• Using Deepana - Pachana- Shodhana medicines and aharaviharas (food habits and exersices).
• Kapha Vata hara oushadas/ medicines to pacify Kapha.
• Shodhana therapy- to clear the channels.
Treatment Modalities:
Talam, Nasyam, Lepa, Swedanam, Naadi sweda, Siro abyanga, Dhumapana, Kabala, Takra dhara, Kashaya dhara, Snehapana, Vamana, etc.
Acute cases:
In acute stages avoid taila nasya instead use swedam, lepa etc.
Acute cases can be treated with internal medicines, steam inhalation, and hot formentation over the painful parts of the face etc.
Chronic Cases:
Can be treated with shodhana therapy or Panchakarma Therapy.
• Shodhana Nasya with Anutailam.
• Dhumapana with Haridra churnam.
• Jalaneti - yoga procedure, etc.
Internal medicines:
Kashaya: Arishta/Asava:
1.Amrithotharam Kashayam 1.Amritarishtam
2.Dasamoola Kadutrayam 2.Punarnavasavam.etc
3.Pathyashadangam.
4.Gulguluthikthakam.
5.Varanadi kashayam.
6.Indukantham Kashayam.etc

Tailam: Churnam:
1.Asaneladi Tailam. 1.Avipathi churnam.
2.Anu tailam 2.Gomutrahareethaki.
3.Amrutadi Tailam. 3.Rasnadi churnam.
4.Nagaradi Tailam. 4.Taleesapatradi churnam.
5.Nirgundyadi Tailam.etc 5.Sudarsanam churnam.etc,

Ghritham: Gulika/ Tablets:
1.Gulgulu thikthakam 1.Kaisora gulgulu.
2.Indukantham 2.Kanchanara gulgulu.
3.Varanadi 3.Vettumaran, etc.
4.Shadpala ghrtham, etc.

Lehyam: Other:
1.Agasthya rasayna 1. Kold off
2.Dasamoola hareehaki. 2.Saina tab.
3.Haridrakhantam, etc. 3.Dologran Tab, etc.

Diet and Life Style:
1. Avoid cold, oily, heavy foods and use light foods.
2. Head bath with cold water should be avoided.
3. Use Rasnadi churna after head bath- on the vertex of the head.
4. Avoid ice creams and cold beverages.
5. Regular use of nasya.
6. Use steam inhalation twice daily.
7. Regular practice of yoga and pranayama.
8. Avoid exposure to cold, wind,rain, swimming etc.
Yoga and Pranayama (breathing exercises) for Sinusitis:
Patients having chronic and recurrent sinusitis will be greatly benefited by yoga andPranayama. Pranayama will help to proper circulation of Prana vata and prevent blockages.
Some of the techniques are:
• Jalaneti kriya.
• Balasana.
• Uttanasana.
• Pavanamukthasana.
• Bhujangasana, etc.
Jalaneti Kriya:

Jalaneti pot
It is a way of nasal irrigation or washing of the sinuses in a unique manner through a special pot called jalaneti pot or the neti pot.
Procedure:
Fill the jalaneti pot with warm saline water and put the spout into the right nostril while tilting your head to the left. Breath normally through the mouth. The water will flow out from the left nostril. Repeat on the opposite side.
Benefits:
Beneficial in cold, mental tension,sinusitis, head ache and poor eye sight, etc. It clears the throat and the nose, makes respiration easy and also strengthens the brain cells.

jala neti kriya
Dhuma Pana or Dhoopanam:
It is a therapeutic smoking procedure using a dhumayantra, within this herbal preparations are burnt and smoke emitted is inhaled. It can clear the pathway and reduce the kapha.
Effects:
Kapha samana, vata kapha hara, sroto sodhana, etc.

Indications: kasa, sinusitis, etc.

Procedure:
Patient is made to sit comfortably on an knee high chair. The lighted dhumayantra is placed in front of the patient on a small table. Then he asked to inhale the smoke through mouth. He should exhale the smoke only through mouth. Repeat this for several times. If sputum comes out spit it. Asked the patient to suck smoke through the nostrils and inhale. He must exhale through mouth. (Exhale only through mouth).

Post operative: Take rest for few minutes. no strict diets and regimen.
(exhale through nostrils is harmful to eyes).

Dhumapanam with Haridra churnam/ turmeric powder: make a paste of haridra churna with anutaila and apply it on a cloth and role it. burn this and off the fire inhale the smoke.
method 2: Simplest method is take a piece of dry turmeric burn in fire. off the fire and inhale the smoke.

Wednesday, January 21, 2015

एडिय़ों का फटना | Tips and remedies for cracked heals

●एडिय़ों का फटना-

- अक्सर सदियों के मौसम में एडी फटने की समस्या देखी जाती है । 

- अगर पैरों की देखभाल अच्छे तरीके से न किया जाए तो पैर फट जाते हैं। नंगे पैर चलने के कारण या फिर खून की कमी से पैर फटते हैं। अगर आप पैरों की सफाई पर ध्यान नहीं देते हैं तो एड़ियां फट जाती हैं और उनमें दरारे आ जाती हैं।
 
- अगर किसी के पैर फट जाते हैं तो वह बहुत गंदा लगता है। अक्सर लोगों को फटे पैरों के कारण शर्मिंदा भी होना पड़ता है। एड़ियां फटने के बाद उनकी देखभाल न की जाए तो खून निकलने लगता और बहुत दर्द होता है। आइए हम आपको फटे पैरों के लिए कुछ घरेलू उपचार (Gharelu Nuskhe) के बारे में बताते हैं।

■ फटे पैरों के लिए घरेलू उपचार:-

- मोम 20 ग्राम, सत्यानाशी के बीजों का पावडर 10 ग्राम और 20 ग्राम शुद्ध घी ले लीजिए। इन सबको मिलाकर एक जार में डाल दीजिए। सोते समय पैरों को धोकर साफ कर लें और पोंछकर यह दवा बिवाई में भर दें और मोजे पहनकर सो जाइए।

- त्रिफला चूर्ण को खाने के तेल में तलकर मलहम जैसा गाढ़ा कर लीजिए।रात में सोते वक्त इस पेस्ट को फटे पैरों पर लगा लीजिए। कुछ दिनों तक इस लेप को लगाने से फटी एड़ियां ठीक हो जाएंगी और पैर कोमल होंगे।

-रात में सोने से पहले पैरों को अच्छी तरह से साफ कर लीजिए। उसके बाद कच्चे घी में बोरिक पाउडर मिलाकर दरारों में भर दीजिए। उसके बाद मोजे पहनकर सो जाइए। ऐसा 3-4 दिन करने पर फटी हुई एड़ियां ठीक हो जाएंगी।

-गेंदे के पत्तों के रस को वैसलीन में मिलाकर लगाने से फटी एड़ियां ठीक हो जाती हैं।

-कच्चा प्याज पीसकर एड़ियों पर बांधने से बिवाईयां ठीक हो जाती हैं।

-पैरों को गर्म पानी से धुलकर उसमे एरंड का तेल लगाने से फटी एड़ियां ठीक हो जाती हैं।

-देशी घी और नमक को मिलाकर फटी एड़ियों पर लगाएं। ऐसा करने से फटी एड़ियां ठीक हो जाती हैं और पैरों की त्वचा भी कोमल रहती है।

-पपीते के छिलकों को सुखाकर और पीसकर चूर्ण बना लीजिए। इस चूर्ण में ग्लिसीरीन मिलाकर दिन में दो बार फटी हुई एड़ियों में लगाने से बहुत जल्दी फायदा होता है।
जब एड़ियों से खून निकल रहा हो तो उनको रात में गर्म पानी से धुलकर उनमें गुनगुना मोम लगाने से खून निकलना बंद हो जाता है और फटी एड़ियां ठीक हो जाती हैं।
 
■जब एड़ियां फट गई हो तो नंगे पैर जमीन पर चलने से परहेज करना चाहिए और पानी में ज्यादा देर तक पैरों को नहीं भिगोना चाहिए। अगर इन आयुर्वेदिक औषधि को आजमाने के बाद भी फायदा न हो तो चिकित्सक से संपर्क करें ।■

एडिय़ों का फटना


- अक्सर सदियों के मौसम में एडी फटने की समस्या देखी जाती है ।
- अगर पैरों की देखभाल अच्छे तरीके से न किया जाए तो पैर फट जाते हैं। नंगे पैर चलने के कारण या फिर खून की कमी से पैर फटते हैं। अगर आप पैरों की सफाई पर ध्यान नहीं देते हैं तो एड़ियां फट जाती हैं और उनमें दरारे आ जाती हैं।
- अगर किसी के पैर फट जाते हैं तो वह बहुत गंदा लगता है। अक्सर लोगों को फटे पैरों के कारण शर्मिंदा भी होना पड़ता है। एड़ियां फटने के बाद उनकी देखभाल न की जाए तो खून निकलने लगता और बहुत दर्द होता है। आइए हम आपको फटे पैरों के लिए कुछ घरेलू उपचार (Gharelu Nuskhe) के बारे में बताते हैं।

■ फटे पैरों के लिए घरेलू उपचार:-

- मोम 20 ग्राम, सत्यानाशी के बीजों का पावडर 10 ग्राम और 20 ग्राम शुद्ध घी ले लीजिए। इन सबको मिलाकर एक जार में डाल दीजिए। सोते समय पैरों को धोकर साफ कर लें और पोंछकर यह दवा बिवाई में भर दें और मोजे पहनकर सो जाइए।
- त्रिफला चूर्ण को खाने के तेल में तलकर मलहम जैसा गाढ़ा कर लीजिए।रात में सोते वक्त इस पेस्ट को फटे पैरों पर लगा लीजिए। कुछ दिनों तक इस लेप को लगाने से फटी एड़ियां ठीक हो जाएंगी और पैर कोमल होंगे।
-रात में सोने से पहले पैरों को अच्छी तरह से साफ कर लीजिए। उसके बाद कच्चे घी में बोरिक पाउडर मिलाकर दरारों में भर दीजिए। उसके बाद मोजे पहनकर सो जाइए। ऐसा 3-4 दिन करने पर फटी हुई एड़ियां ठीक हो जाएंगी।
-गेंदे के पत्तों के रस को वैसलीन में मिलाकर लगाने से फटी एड़ियां ठीक हो जाती हैं।
-कच्चा प्याज पीसकर एड़ियों पर बांधने से बिवाईयां ठीक हो जाती हैं।
-पैरों को गर्म पानी से धुलकर उसमे एरंड का तेल लगाने से फटी एड़ियां ठीक हो जाती हैं।
-देशी घी और नमक को मिलाकर फटी एड़ियों पर लगाएं। ऐसा करने से फटी एड़ियां ठीक हो जाती हैं और पैरों की त्वचा भी कोमल रहती है।
-पपीते के छिलकों को सुखाकर और पीसकर चूर्ण बना लीजिए। इस चूर्ण में ग्लिसीरीन मिलाकर दिन में दो बार फटी हुई एड़ियों में लगाने से बहुत जल्दी फायदा होता है।
जब एड़ियों से खून निकल रहा हो तो उनको रात में गर्म पानी से धुलकर उनमें गुनगुना मोम लगाने से खून निकलना बंद हो जाता है और फटी एड़ियां ठीक हो जाती हैं।
■जब एड़ियां फट गई हो तो नंगे पैर जमीन पर चलने से परहेज करना चाहिए और पानी में ज्यादा देर तक पैरों को नहीं भिगोना चाहिए। अगर इन आयुर्वेदिक औषधि को आजमाने के बाद भी फायदा न हो तो चिकित्सक से संपर्क करें ।

लेखक: 
डॉ0 सुरेन्द्र शर्मा 
आयुर्वेद फिजीशियन 

Monday, December 15, 2014

क्या बवासीर बिना ऑपरेशन या सर्जरी पूर्ण रूप से ठीक हो सकती है?

Can Piles be cured completely by Ayurveda medicines only without any surgery or operation?

क्या बवासीर बिना ऑपरेशन या सर्जरी पूर्ण रूप से ठीक हो सकती है?

अक्सर ऐसा माना जाता है की बवासीर (पाईल्स) की बीमारी बिना सर्जरी या ऑपरेशन ठीक नहीं होती। वास्तव में ऐसा नहीं है। बवासीर के मस्से वस्तुतः प्रत्येक मनुष्य में सामान्य रूप से पाये जाते हैं, ये वास्तव में रक्त वाहिनियों का गुच्छा (Haemorrhoidal plexus) होता है, परंतु लगातार पेट खराब रहने कब्ज़ रहने या अत्यधिक गरम तासीर वाले चटपटे, मिर्च मसालेयुक्त भोजन का सेवन करने से इन मस्सों के ऊपर की शैलेष्मिक झिल्ली (mucous membrane) उखड जाती है, जिसके कारण रक्तवाहिनियों से मलत्याग का ज़ोर लगाने पर (Straining during defecation) खून निकलने लगता है। इस समय ये मस्से गुदा के अंदर ही रहते हैं परंतु मलत्याग के समय रुक रुक कर ब्लीडिंग होती है। दर्द सामान्तय: नहीं होता । यह अवस्था प्रथम डिग्री (First degree haemorrhoids) पाईल्स कहलाती है।
प्रथम डिग्री (First degree haemorrhoids) पाईल्स आयुर्वेद औषधियों से पूर्ण रूप से ठीक हो सकती है, और यदि व्यक्ति खाने पीने का ध्यान रखे, तो इसे आगे बढ्ने से भी रोका जा सकता है।
प्रथम डिग्री पाईल्स (First degree haemorrhoids) से अगली अवस्था द्वितीय डिग्री(Second degree haemorrhoids) कहलाती है। इस अवस्था में मस्सों से मलत्याग के समय खून तो आता है परंतु ये मलत्याग के समय ज़ोर लगाने पर बाहर आ जाते हैं, परंतु मलत्याग के बाद स्वतः ही गुदा के अंदर चले जाते हैं। इस अवस्था में भी यदि रक्तस्राव अधिक ना हो तो आयुर्वेद औषधियों और खाने पीने के परहेज से ही रोगी ठीक हो जाता है।
लगातार कब्ज़ बनी रहे और व्यक्ति खाने पीने में सावधानी ना रखे तो ये मस्से मलत्याग के ज़ोर के समय बाहर आते हैं और ज़ोर हटाने पर भी अपने आप अंदर नहीं जाते। अंदर करने के लिए उंगली से सहारा देना पड़ता है। इस अवस्था को त्रतीय डिग्री पाईल्स (Third degree Haemorrhoids) कहते हैं। इस अवस्था में भी यदि रोगी को रक्तस्राव अधिक नहीं हो रहा है और उसको किसी प्रकार का दर्द महसूस नहीं होता तो आयुर्वेद औषधियों और खाने पीने के परहेज से काफी हद तक बीमारी को नियंत्रित किया जा सकता है, परंतु इस अवस्था में यदि ब्लीडिंग ज्यादा हो रही है, तो सर्जरी या ऑपरेशन की आवश्यकता पड़ती है।  ऑपरेशन के कई तरीके हैं और आयुर्वेद क्षार सूत्र तकनीक भी मस्सों को पूर्ण रूप से हटाने का एक अच्छा विकल्प है।

अतः बवासीर के केवल उन रोगियों मे सर्जरी या ऑपरेशन की जरूरत पड़ती है जिनके मस्से बड़े हों (Late 2nd or 3rd degree Hemorrhoids) या जिनकी ब्लीडिंग दवाइयों और खाने पीने के परहेज से न नियंत्रित हो रही हो।

लेखक :-
डॉ॰ नवीन चौहान
BAMS, CCYP, ROTP, CRAV (Kshar sutra) 
लेखक एक क्वालीफ़ाइड आयुर्वेद चिकित्सक हैं और क्षार सूत्र चिकित्सा में पिछले सात वर्षों से प्रैक्टिस कर रहे हैं। कोई भी शंका या सवाल होने पर आप इनसे ईमेल nchauhan.dr@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं अथवा कमेंट भी कर सकते हैं। 


Wednesday, December 10, 2014

Health benefits of Carrots

Health benefits of Carrots



1. Good for your eyes

Western culture’s understanding of carrots being “good for the eyes” is one of the few we got right. Carrots are rich in beta-carotene, which is converted into vitamin A in the liver. Vitamin A is transformed in the retina, to rhodopsin, a purple pigment necessary for night vision.

Beta-carotene has also been shown to protect against macular degeneration and senile cataracts. A study found that people who eat the most beta-carotene had 40 percent lower risk of macular degeneration than those who consumed little.

2. Slows down aging 

The high level of beta-carotene acts as an antioxidant to cell damage done to the body through regular metabolism. It help slows down the aging of cells.

3. Promotes healthier skin

Vitamin A and antioxidants protects the skin from sun damage. Deficiencies of vitamin A cause dryness to the skin, hair and nails. Vitamin A prevents premature wrinkling, acne, dry skin, pigmentation, blemishes, and uneven skin tone.

4. Helps prevent cancer

Studies have shown carrots reduce the risk of lung cancer, breast cancer and colon cancer. Researchers have just discovered falcarinol and falcarindiol which they feel cause the anticancer properties.

Falcarinol is a natural pesticide produced by the carrot that protects its roots from fungal diseases. Carrots are one of the only common sources of this compound. A study showed 1/3 lower cancer risk by carrot-eating mice.

5. Promotes healthier skin (from the outside)

Carrots are used as an inexpensive and very convenient facial mask. Just mix grated carrot with a bit of honey.

6. Prevents heart disease

Studies show that diets high in carotenoids are associated with a lower risk of heart disease. Carrots have not only beta-carotene but also alpha-carotene and lutein.

7. Helps prevent infection 

Carrots are known by herbalists to prevent infection. They can be used on cuts – shredded raw or boiled and mashed.

The regular consumption of carrots also reduces cholesterol levels because the soluble fibers in carrots bind with bile acids.

8. Detoxifies the body

Vitamin A assists the liver in flushing out the toxins from the body. It reduces the bile and fat in the liver. The fibers present in carrots help clean out the colon and hasten waste movement.


9. Prevents stroke

From all the above benefits it is no surprise that in a Harvard University study, people who ate more than six carrots a week are less likely to suffer a stroke than those who ate only one carrot a month or less.

10. Protects teeth and gums

It’s all in the crunch! Carrots clean your teeth and mouth. They scrape off plaque and food particles just like toothbrushes or toothpaste. Carrots stimulate gums and trigger a lot of saliva, which being alkaline, balances out the acid-forming, cavity-forming bacteria. The minerals in carrots prevent tooth damage.


Friday, November 14, 2014

आर्थराइटिस की आयुर्वेदिक चिकित्सा

आर्थराइटिस की आयुर्वेदिक चिकित्सा : *************************************


आर्थराइटिस( जोड़ों का दर्द) बेहद कष्टकारी रोग है, इस रोग के निवारण हेतु कोई कारगर दवा नही है, जो दवाएं हैं भी वे सिर्फ दर्द को भुलाने मात्र का कार्य करती हैं |
खान-पान में सुधार एवं कुछ प्राकृतिक उपायों को अपनाकर इस रोग से मुक्ति पायी जा सकती है |

प्राकृतिक चिकित्सा :
———————-
एक प्रेशर कुकर में पानी भरकर गर्म करें,जब पानी उबलने लगे तब कुकर की सीटी को निकालकर अलग कर दें एवं सीटी वाली पाइप जहाँ से भाप निकल रही है वहां पर एक रबड़ की नली लगा दें | अब इस रबड़ की नली से भाप निकलना प्रारंभ हो जायेगा | पाइप को एक हाथ से पकडकर रोगग्रस्त जोड़ों पर भाप को लगायें एवं दूसरे हाथ से उसी अंग पर हल्के से मसाज करते रहें | प्रत्येक अंग पर कम से कम 5 मिनट तक भाप लगने दें | इस उपचार को प्रतिदिन 1 बार करें |

भोजन :
———
प्राकृतिक भोजन जिसमें खासकर हरी पत्‍तेदार सब्‍जी का सेवन करना काफी फायदेमंद माना जाता है। इसमे मौजूद विटामिन व मिनरल जोड़ों के दर्द को कम करता है साथ ही इससे शरीर को ऊर्जा मिलती है और हडिडयां मजबूत होती हैं।

परहेज :
——-
समस्त प्रकार की दालें,मिर्च,मसाले,अचार,मुरब्बा,चाय,काफ़ी,बाज़ार की मिठाईयां फास्ट फ़ूड,जंक फ़ूड आदि बंद कर दें |

अन्य घरेलू उपाय :
———————
• प्रातः रात्रि आधा- आधा चम्मच अरंडी के जड़ का चूर्ण लेने से गठिया के रोग में चमत्कारिक लाभ होता है। यदि जोड़ों का दर्द प्रारंभिक अवस्था में है तो अरंडी के तेल के मालिश भी अत्यंत लाभदायक है।

• आर्थराइटिस रोग में रक्त में यूरिक एसिड की मात्रा अधिक हो जाती है। इसे कम करने के लिए प्रातः खाली पेट लहसुन की 2-3 कलियाँ छीलकर पानी के साथ निगल लेनी चाहिए | लहसुन के रस को कपूर में मिला कर मालिश करने से भी दर्द में भी राहत मिलती है।

• जोड़ों के दर्द से परेशान लोगों को हर रोज 20 ग्राम अदरक दो बार लेने से दर्द में बहुत राहत मिलती है। आप चाहें तो सब्जी, सूप या अन्य चीजों में मिलाकर भी अदरक का सेवन कर सकते हैं।

• जोड़ों पर नीबू के रस की मालिश करने से और रोजाना सुबह एक गिलास पानी में एक नीबू का रस निचोड़ कर पीते रहने से जोड़ों की सूजन एवं दर्द दूर होता है।

• प्रतिदिन 15-20 मिली. बथुआ के ताजा पत्‍तों का रस पीना चाहिए। खाली पेट पीने से अधिक लाभ होता है। तीन महीने तक प्रतिदिन प्रातः खाली पेट बथुआ के ताजा पत्‍तों का रस पीने से इस रोग से हमेशा के लिए छुटकारा मिल जाता है।

• प्रतिदिन भोजन के 15 मिनट पहले दो आलूओं का रस (लगभग 100 मिली. रस) निकाल कर पीने से इस रोग में अत्यंत लाभ मिलता है।

• 100 ग्राम मैथीदाना भूनकर चूर्ण बना लें इसमें 50 ग्राम सौंठ + 25 ग्राम हल्दी + 250 ग्राम मिश्री का चूर्ण मिला दें। इस चूर्ण को शीशी में भरकर रख दें। प्रातः – सायं 1–1 चम्मच मात्रा, दूध के साथ लें।

■- अधिक जानकारी के लिए आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श करें -■

Author: 
Dr. Surendra Sharma
Consultant Ayurveda Physician